ईमानदार लकड़हारा | Short Story In Hindi | Hindi Stories

Admin
0

 short story in hindi  

ईमानदार  लकड़हारा | bachon ki kahani in hindi | 

बहुत समय पहले की  बात है । एक लकड़हारा एक छोटे से गांव में रहता था। वह बहुत गरीब था।  वो रोज लकडिया काटकर अपना गुजारा करता था।  एक दिन लकडिया काटते हुए।  उसके हाथ से कुल्हाड़ी फिसल कर एक छोटी सी नदी में गिर गयी।  वह जल्दी से पेड़ से उतर कर अपनी कुल्हाड़ी नदी में देखने लगा।  पर उसकी कुल्हाड़ी नहीं मिली।  तोह वह रोने लगा।  वह बहुत गरीब थे और उसके पास एक ही कुल्हाड़ी थी। तभी उसने देखा की पानी में से एक जलपरी उसके सामने कड़ी थी। जलपरी ने लकड़हारे से पूछा तुम क्यों रो रहे हो ? क्या बात है? तभी लकड़हारे ने बताया की उसकी कुल्हाड़ी नदी में गिर गयी।  जलपरी ने उसे तीन कुल्हाड़ी दिखाई ,सोने की, चाँदी की और लोहे की।  


ईमानदार  लकड़हारा | short story in hindi | short hindi stories

     जलपरी ने उससे पूछा इनमें से तुम्हारी कुल्हाड़ी कोनसी है ? सोने की ,चाँदी की या लोहे की। लकड़हारे ने कहाँ मेरी कुल्हाड़ी लोहे की है। 

जलपरी ने कहाँ तुम बोहोत ईमानदार हो। मुझे तुम्हारी ईमानदारी देखकर तुमपर गर्व है। यह सोने की और चाँदी की कुल्हाड़ी मेरी ओर से तुम रख लो और लकड़हारा वहाँ से खुशी-खुशी चला गया और उनदोनों कुल्हाड़ियों को बाजार में बेच आया ओर खुशी-खुशी रहने लगा। 


ईमानदार  लकड़हारा | short story in hindi | short hindi stories

    एक दूसरे लकड़हारे से उससे पूछा तुम तो बोहोत गरीब थे। अब तुम इतने अमीर कैसे होगए।  उस लकड़हारे ने उसे सबकुछ बता दिया और दूसरे लकड़हारे के मन में लालच आगया। अगले दिन उसने अपनी कुल्हाड़ी जानबूछकर नदी में फेंक दी। कुछ देर बाद जलपरी बहार आयी और लकड़हारा रोने का नाटक करने लगा। जलपरी ने उससे पूछा की तुम्हे क्या हुआ और तुम रो क्यों रहे हो। लकड़हारे ने उससे कहाँ की मेरी कुल्हाड़ी नदी में गिर गयी है। जलपरी ने उसे तीन कुल्हाड़ी दिखाई और पूछा की इनमे से कोनसी कुल्हाड़ी तुम्हारी है? लकड़हारे ने कहाँ ये तीनो कुल्हाड़ी मेरी है। ये पानी में गिर गयी थी। तुम बहुत लालची हो,पानी में तो सिर्फ एक लोहे की कुल्हाड़ी गिरी थी और तुमने कहाँ की ये तीनो कुल्हाड़ी मेरी है और जलपरी ने उसकी लोहे की कुल्हाड़ी भी नहीं दी और वह चली गई और लकड़हारा रोने लगा। 



शिक्षा : इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है की हमें कभी भी लालच नहीं करना चाहिए।"लालच बुरी बला है "


       

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !